Latest news
एसडीएम द्वारा व्यापार मंडल व अन्य संस्थाओं तथा लोगों को कोरोना... बीजेपी और गऊशाला सेवा समिति ने 1992 में मंदिर निर्माण को लेकर ... श्री राम मंदिर भूमि पूजा करने की पूर्व संध्या और लगाए 493 पौध पर्यावरण को बचाने के लिए बहुपर्तीय वर्ष लगाए फार्मासिस्टों और दर्जा चार कर्मचारियों का धरना 47वें दिन में श... सावन माह के आखिरी सोमवार को ठंडे ठंडे सेब की मुरब्बे का भंडारा... सरकारी प्राइमरी स्कूल सुलतानपुरा (नीम वाला स्कूल) को दूसरी बार... लोगों को अलग-अलग बीमारियों से बचाने के लिए नगर कौंसिल फाजिल्का... आप पार्टी के नेताओं ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पुलिस द्वारा दर्ज क... लायंस क्लब विशाल ने वितरित की राशन की 31 किट्टें

प्रिंसिपल बना प्रेमी, अब तक 8 लड़कियों को फसा चुका है अपने प्रेमजाल में







While in jail he was writing a book on these 8 girls,

 

जालंधर/राजकोट-( पंजाब वार्ता ब्यूरो)- छात्रों को अपने प्रेमजाल में फ़साने वाले प्रिंसिपल धवल त्रिवेदी उस समय राजकोट की जेल में बंद था. इस आरोपी ने वर्ष 2005 से 2012 के दरमियान अलग-अलग स्कूल की 8 छात्राओं को प्रेम जाल में फांसने और भागकर उनसे शादी की थी. जेल में कैद यह प्रिंसिपल अपनी लवस्टोरी पर एक किताब लिख रहा था. इतना ही नहीं, आरोपी की एक और इच्छा  थी की वह जेल से छूटने के बाद दो लड़कियों से लव मैरिज करना चाहता था.

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार प्रिंसिपल धवल त्रिवेदी ने अपने साथी कैदियों से कहा कि उसका सपना 10 लड़कियों से लव मैरिज करने का है और इसके बाद प्रेम के इस सफर पर एक किताब लिखना चाहता है. वह अपने इस सपने को पूरा करने के लिए जेल से बहार निकलने का इंतजार कर रहा था. हालांकि इस दौरान जेल में ही वह इन 8 लड़कियों पर किताब लिख रहा था, जिन्होंने उससे प्यार किया और शादी की.

प्रिंसिपल धवल त्रिवेदी का प्रेम सफर :-

 प्रिंसिपल धवल त्रिवेदी की उम्र 44 वर्ष है वह सबसे पहले 2010 में राजकोट के एक निजी स्कूल का प्रिंसिपल बना. धवल की दो शादियां हुईं, लेकिन दोनों पत्नियों से उसका तलाक हो गया. पत्नियों के चले जाने के बाद उसने स्कूली छात्राओं को ही अपने प्रेम जाल में फंसाना शुरू कर दिया. देश की 8 श्रेत्रीय भाषाओं का ज्ञानी धवल वर्ष 2012 से पहले महाराष्ट्र, हरियाणा, पंजाब और हिमाचल प्रदेश के कई स्कूलों में शिक्षक तो कहीं प्रिंसिपल के पद पर अपनी सेवाएं दे चूका था.

अपने इस 7 साल के शिक्षक कॅरियर में वह 8 स्कूली छात्राओं को अपने प्रेम जाल में फसा कर उनको घर से भगा चुका था. छात्राओं के साथ भागने के बाद वह दूसरे राज्य पहुंच जाता था और फिर अपने सर्टिफिकेट के आधार पर किसी न किसी प्राईवेट स्कूल में नौकरी तो कोचिंग शुरू कर लेता था. प्रिंसिपल धवल त्रिवेदी ने क्राइम ब्रांच को बताया की वह लड़कियों को कुछ महीनों तो अपने साथ रखता फिर उन्हें वापस अपने घर लौटने का बोल देता था. इसी तरह धवल वर्ष 2012 में भी राजकोट (गुजरात) के स्कूल से भी दो छात्राओं को लेकर फरार हो गया था.

दोनों से आर्य मंदिर में शादी करने के बाद 2 वर्ष तक पंजाब और हरियाणा में अलग-अलग स्थानो पर रहा. हालांकि, क्राइम ब्रांच ने उसे जुलाई 2014 में पकड़ लिया था. 

219 Views


Leave a Reply

error: Content is protected !!