Latest news
शिमला में गिले कूड़े से खाद बनाने के लिए बनेंगे चार प्लांट खुद बेरोजगार, लोगों को देगा रोजगार वाह रे तेरे वादे वाह रे तेरे वादे। समरबीर सिंह सिद्धू की जन आशीर्वाद रैली में उमड़े समर्थकों व वालंटियरों के सैलाब ने विरोधियों के उड़ा... 4 साल की मासूम को आवारा कुत्तों ने नोंचा ओबीसी आरक्षण पर बवाल, भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर नजरबंद एमएलए बनने की चाह ,कहीं शुरू होने से पहले ही ना खत्म कर दे राजनीतिक सफर।प्रयोग करो और फेक दो, शायद इ... केंद्रीय मंत्री सोम प्रकाश को मिला शिष्टमंडल ओडिशा में 5400 फूलों से बना सांता क्लॉज पंजाब में चुनावों से पहले बेअदबी की घटना से सूबे में माहौल खराब करने की कोशिश लुधियाना सिविल अस्पताल की स्टाफ नर्सें हड़ताल पर, सिविल सर्जन कार्यालय में दिया धरना


खुद बेरोजगार, लोगों को देगा रोजगार वाह रे तेरे वादे वाह रे तेरे वादे।



फाजिल्का-(दलीप दत्त)- फाजिल्का विधानसभा पर आम आदमी पार्टी द्वारा लगभग 6 महीने पहले अकाली दल छोड़कर आए युवा नेता को नई पार्टी द्वारा उम्मीदवार बनाए जाने के बाद उम्मीदवार का विरोध कम नहीं हो रहा है जो दिन-ब-दिन बढ़ता ही जा रहा है बीते लगभग4-5 दिन पहले अबोहर व फाजिल्का से आम पार्टी में अलग-अलग ओहदे पर काम कर रहे 100 के करीब लोगों ने लगभग 14 पृष्ठों पर अपने हस्ताक्षर करके 6 महीने पहले पार्टी छोड़कर आए व्यक्ति को आम पार्टी द्वारा टिकट देने का विरोध किया है

14 पृष्ठों की पीडीएफ कॉपी देखने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें👇👇👇👇

https://bit.ly/3FMZJcq

आपको बता दें कि पंजाब में कुल 117 विधानसभा सीटें हैं और राजनीतिक विशेषज्ञों की नजर से देखें तो फाजिल्का एक ऐसी विधानसभा सीट है जहां नई पार्टी का मुखोटे लगाकर अकाली दल ही चुनाव लड़ रहा है और काली दल के उम्मीदवार के सामने चुनाव मैदान में उतारा गया है। क्योंकि नई पार्टी के उम्मीदवार द्वारा फाजिल्का के जो बिजनेसमैन का नाम लेकर धन्यवाद किया गया उक्त बिजनेसमैन कि अकाली दल के साथ कितने नज़दीकियां हैं उसका फाजिल्का के हर बच्चे बच्चे को पता है जब भी अकाली दल का कोई भी कार्यक्रम फाजिल्का का में रखा जाता रहा है तो लगभग उक्त बिजनेसमैन के घर ही अकाली दल के डिप्टी सीएम का खाना होता था (है) और इस नज़दीकियो के चलते उक्त बिजनेसमैन क्यों वहां से जहां अकाली दल चुनाव लड़ रहा हो और पार्टी द्वारा उम्मीदवार का ऐलान भी किया गया हो उसके मुकाबले पर विपक्षी पार्टी के व्यक्ति को टिकट दिलाने में इतना जोर लगाया गया और टिकट भी दिला दी गई। आपको बता दें कि लगभग 6 महीने पहले उक्त अकाली दल छोड़कर नई पार्टी में शामिल हुए युवा नेता को पार्टी में शामिल करना यह एक विरोधियों की चाल थी कि राय सिख  बिरादरी से संबंधित मौजूदा विधायक को हराने के लिए राय सिख  बिरादरी से उम्मीदवार को उनके खिलाफ किसी विपक्षी पार्टी से उम्मीदवार खड़ा किया जाए। इसलिए विपक्षी दल को पता था अगर उसे अपनी पार्टी से उक्त युवा नेता को चुनाव मैदान में उतारते हैं तो पार्टी की बहुत ही ज्यादा बेइज्जती हो जाएगी इसलिए उक्त युवा नेता को नई पार्टी में शामिल करवा कर यह चाल चली। और टिकट मिलने के बाद उक्त युवा नेता का लगातार विरोध हो रहा है। और दूसरी तरफ युवा उम्मीदवार द्वारा प्रेस नोट जारी करके कहां गया कि आम पार्टी के सभी पार्षद उसके साथ आ गए हैं परंतु सोचने वाली बात है कि सिर्फ नई बनी पार्टी के दो पार्षद ही जीत पाए थे जबकि बाकी सब की हार हुई थी जो पार्षद खुद अपने वार्ड में अपने लिए जीत के लिए वोट नहीं ले सके उन हारे हुए पार्षदों के कहने पर वार्ड वासी किस तरह उक्त नऐ उम्मीदवार को वोट डाल देंगे। इसलिए अब फाजिल्का विधानसभा की जनता को सोचना होगा कि बार-बार अपने राजनीतिक फायदे के लिए किस तरह जनता को मूर्ख बनाया जाता है और खास करके फाजिल्का में बनाया जा रहा है। और दूसरी बात युवा उम्मीदवार द्वारा लोगों को रोजगारऔर अन्य वादे किए जा रहे हैं कि उसके जीतने के बाद लोगों को मुहैया कराई जाएंगी और खुद को बेरोजगार कहता है।

91 Views

Leave a Reply

error: Content is protected !!