Latest news
ਬੱਲੂਆਣਾ ਦੇ ਵਿਧਾਇਕ ਨੇ ਹਲਕੇ ਦੇ ਪਿੰਡ ਰਾਮਕੋਟ ਦਾ ਦੌਰਾ ਕਰਕੇ ਲੋਕਾਂ ਦਾ ਕੀਤਾ ਧੰਨਵਾਦ सिद्धू मूसेवाला की मौत आप सरकार की पूरी तरह नाकामी, सीएम मान और केजरीवाल का पुतला फूंका मूसेवाला हत्याकांड उत्तराखंड पुलिस ने हेमकुंड से लौट रहे 6 संदिग्‍धों को पकड़ा ਮੁੱਖ ਮੰਤਰੀ ਪੰਜਾਬ ਵੱਲੋਂ ਕੀਤੀ ਗਈ ਸਿਹਤ ਮੰਤਰੀ ਦੀ ਕਾਰਵਾਈ ਤੋਂ ਬਾਅਦ ਕਈਆਂ ਐਮਐਲਏ ਦੇ ਹੱਥ ਪੈਰ ਫੁੱਲੇ। फाजिल्का निवासी पवन ग्रोवर व सीमा ग्रोवर की आज शादी की 25 वीं वर्षगांठ जन्मदिन की शुभकामनाएँ उत्तर कोरिया ने जापान सागर में फिर दागी मिसाइल परमाणु परीक्षण करने की जताई गई आशंका दहेज के लिए परेशान करने वाले पति पर पर्चा दर्ज 3 ऐसे फूड्स जिन्हें खाकर 119 साल तक जीवित रहीं दुनिया की सबसे बुजुर्ग महिला केन तनाका विमल के विज्ञापन पर विवाद के बाद अक्षय कुमार ने मांगी माफी कहा कि मैं विज्ञापन के सारे पैसे किसी की ...

एजोवस्तल से जख्मी सैनिकों व नागरिकों को निकालना चाहता है यूक्रेन, रूस से की ये मांग

कीव-यूक्रेन में हमले जारी हैं। इस क्रम में मारियूपोल के एजोवस्तल स्टील प्लांट में घायल सैनिकों व नागरिकों की मदद के लिए यूक्रेन ने रूस से गुहार लगाई है। यूक्रेन के के उप प्रधानमंत्री इराइना वेरेस्चुक ने गुरुवार को रूस से कहा है कि प्लांट में हमलों के कारण जख्मी नागरिकों व सैनिकों की सुरक्षित मानवीय कारिडोर के जरिए निकासी कराई जाए। वेरेस्चुक ने आनलाइन पोस्ट में कहा, ‘वहां करीब 1000 जख्मी नागरिक और 500 सेना के जवान हैं। इन सबको प्लांट से निकालने की जरूरत है।

रूस के रक्षा मंत्री सर्गेइ शोइगु (Sergey Shoigu) ने राष्ट्रपति ब्लादीमिर पुतिन से गुरुवार को कहा कि देश की सेना ने मारियूपोल पर पूरी तरह कब्जा हासिल कर लिया है। मार्च के शुरुआत में ही जब रूस ने मारियूपोल पर हमला किया था तब प्लांट के भीतर करीब 8,100 यूक्रेनी सेना मौजूद थी और अब भी वहां 2000 से अधिक जवान हैं। 1400 से अधिक आतंकियों ने अपने हथियार डाल दिए और 142,000 से अधिक लोगों की शहर से सुरक्षित निकासी कराई गई। रूस ने दो बार प्लांट में मौजूद लोगों के सुरक्षित निकासी की पेशकश की लेकिन कोई सामने नहीं आया। शोइगु ने कहा कि प्लांट से लोगों को निकालने के लिए हर दिन दो घंटे के लिए मानवीय कारिडोर का भी विकल्प दिया गया था। उन्होंने कहा, ‘हमने 90 बसों और 25 एंबुलेंस उनके लिए तैयार किए और हालात पर काबू रखने के लिए कैमरे भी लगाए। प्लांट से निकलने के लिए किसी ने अपना कदम नहीं बढ़ाया।’ यूक्रेन के 36वें मरींस ब्रिगेड के कमांडर सर्गेइ वालिना ने दावा किया कि सैंकड़ों नागरिक प्लांट के भीतर फंस गए थे। रूस ने फरवरी के अंत में यूक्रेन पर पहला हमला किया था। यह क्रम अब तक जारी है। इन हमलों से नाराज हो अमेरिका समेत अनेक पश्चिमी देशों ने यूक्रेन पर कई प्रतिबंध लगा दिए हैं।

56 Views
error: Content is protected !!