Latest news
ਬੱਲੂਆਣਾ ਦੇ ਵਿਧਾਇਕ ਨੇ ਹਲਕੇ ਦੇ ਪਿੰਡ ਰਾਮਕੋਟ ਦਾ ਦੌਰਾ ਕਰਕੇ ਲੋਕਾਂ ਦਾ ਕੀਤਾ ਧੰਨਵਾਦ सिद्धू मूसेवाला की मौत आप सरकार की पूरी तरह नाकामी, सीएम मान और केजरीवाल का पुतला फूंका मूसेवाला हत्याकांड उत्तराखंड पुलिस ने हेमकुंड से लौट रहे 6 संदिग्‍धों को पकड़ा ਮੁੱਖ ਮੰਤਰੀ ਪੰਜਾਬ ਵੱਲੋਂ ਕੀਤੀ ਗਈ ਸਿਹਤ ਮੰਤਰੀ ਦੀ ਕਾਰਵਾਈ ਤੋਂ ਬਾਅਦ ਕਈਆਂ ਐਮਐਲਏ ਦੇ ਹੱਥ ਪੈਰ ਫੁੱਲੇ। फाजिल्का निवासी पवन ग्रोवर व सीमा ग्रोवर की आज शादी की 25 वीं वर्षगांठ जन्मदिन की शुभकामनाएँ उत्तर कोरिया ने जापान सागर में फिर दागी मिसाइल परमाणु परीक्षण करने की जताई गई आशंका दहेज के लिए परेशान करने वाले पति पर पर्चा दर्ज 3 ऐसे फूड्स जिन्हें खाकर 119 साल तक जीवित रहीं दुनिया की सबसे बुजुर्ग महिला केन तनाका विमल के विज्ञापन पर विवाद के बाद अक्षय कुमार ने मांगी माफी कहा कि मैं विज्ञापन के सारे पैसे किसी की ...

विदेशों में अमेरिकी जैविक प्रयोगशाला का रहस्य

खतरनाक जैविक प्रयोग और जैविक सैन्य गतिविधि रोकने के लिए अंतर्राष्ट्रीय समुदाय ने विशेष रूप से “जैविक हथियार संधि” बनाई। सत्यापन व्यवस्था की वार्ता वर्ष 1995 में शुरू हुई। अमेरिका ने जुलाई 2001 में न सिर्फ जैविक हथियारों के सत्यापन से इनकार किया, बल्कि संधि से पीछे हटा। वार्ता में विभिन्न देशों ने जैविक हथियार का खतरा कम करने पर ध्यान दिया, जबकि अमेरिकी प्रतिरक्षा मंत्रालय के वरिष्ठ अध्ययन ब्यूरो ने जैविक हथियार के महत्व को समझा। फिर अमेरिका ने वर्ष 2001 से विदेशों में जीव विज्ञान प्रयोगशाला का निर्माण करने की योजना बनाई।

    
अमेरिका के जैविक प्रयोगशाला पूरी दुनिया में फैल रही है। यूक्रेन स्थित प्रयोगशाला के आसपास 20 सैनिक फ्लू वाइरस से मर गए। उधर, फोर्ट डेट्रिक जैविक प्रयोगशाला के आसपास कोविड-19 महामारी फैलने से पहले अज्ञात कारण का निमोनिया फैला। तो क्या विदेशों में अमेरिकी जैविक प्रयोगशाला का कोई रहस्य है? हमें सोचना चाहिए।

41 Views
error: Content is protected !!