Latest news
शिमला में गिले कूड़े से खाद बनाने के लिए बनेंगे चार प्लांट खुद बेरोजगार, लोगों को देगा रोजगार वाह रे तेरे वादे वाह रे तेरे वादे। समरबीर सिंह सिद्धू की जन आशीर्वाद रैली में उमड़े समर्थकों व वालंटियरों के सैलाब ने विरोधियों के उड़ा... 4 साल की मासूम को आवारा कुत्तों ने नोंचा ओबीसी आरक्षण पर बवाल, भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर नजरबंद एमएलए बनने की चाह ,कहीं शुरू होने से पहले ही ना खत्म कर दे राजनीतिक सफर।प्रयोग करो और फेक दो, शायद इ... केंद्रीय मंत्री सोम प्रकाश को मिला शिष्टमंडल ओडिशा में 5400 फूलों से बना सांता क्लॉज पंजाब में चुनावों से पहले बेअदबी की घटना से सूबे में माहौल खराब करने की कोशिश लुधियाना सिविल अस्पताल की स्टाफ नर्सें हड़ताल पर, सिविल सर्जन कार्यालय में दिया धरना


एमएलए बनने की चाह ,कहीं शुरू होने से पहले ही ना खत्म कर दे राजनीतिक सफर।प्रयोग करो और फेक दो, शायद इसी को कहते हैं राजनीति में



– अपने वार्ड में तो अपनी पार्टी से नहीं जीता पाया पार्षद और खुद एमएलए की चाह में अपना भविष्य लगाया दांव पर।

– प्रयोग करो और फेक दो, शायद इसी को कहते हैं राजनीति में।

फाजिल्का -( दलीप दत्त)- 2022 में होने जा रहे पंजाब विधानसभा को लेकर अभी तक चुनाव आयोग ने अभी तक कोई घोषणा नहीं की है परंतु आम आदमी पार्टी और अकाली दल  ने कई विधानसभाओं पर अपने उम्मीदवार घोषित कर दिए हैं। उसी प्रकार आम आदमी पार्टी ने भी जिला फाजिल्का की 3 विधानसभाओं पर अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है और पार्टी द्वारा तीनों उम्मीदवार की घोषणा के बाद लगातार उसका पार्टी के अंदर ही विरोध होना शुरू हो गया है बात करते हैं फाजिल्का की जहां आम आदमी पार्टी द्वारा 2017 के चुनाव लड़ चुके उम्मीदवार समर वीर सिंह को हल्का इंचार्ज लगाया गया था और हल्का इंचार्ज लगने के बाद समरवीर द्वारा लगातार लोगों को बड़ी संख्या में जोड़ा और पार्टी की जीत के लिए दिन और रात देखे बिना लगातार काम किया परंतु पार्टी ने लगभग 6-8 महीने पहले अकाली दल छोड़ कर आए व्यक्ति को अपना उम्मीदवार घोषित कर दिया।

जैसा कि पहले ही लोगों द्वारा बिना नाम  लिए कहां जा रहा था कि कि अकाली दल और बीजेपी ने आम आदमी पार्टी में अपना एक तीर छोड़ दिया है। उधर टिकट की घोषणा होने के बाद समरवीर द्वारा अपने समर्थकों के साथ एक एक मीटिंग बुलाई गई और उस वर्कर मीटिंग के बाद समय समरवीर ने पार्टी पर टिकट को बेचने के आरोप लगाए।

समरवीर जनता की राय जानने के लिए बाजार में निकले और लोगों ने किस तरह उनका स्वागत किया देखने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें

https://fb.watch/agVCImVXMq/

-समरवीर द्वारा टिकट बेचने के आरोप  कितना सच कितना झूठ।

आज से लगभग 3 महीने पहले उक्त उम्मीदवार ने फाजिल्का से संबंधित बिजनेसमैन जिनका आए दिन अखबारों पेपरों में किसी न किसी फिल्मी एक्टर के साथ फोटो आता रहता है उससे  साथ चंडीगढ़ में मुलाकात की थी आपको बता दें कि उक्त बिजनेसमैन  अकाली दल से संबंधित है सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार फाजिल्का के साथ लगते एक गांव में किसी जमीन को लेकर बिजनेसमैन की मौजूदा विधायक के साथ नाराजगी चल रही थी और उस नाराजगी के चलते विधायक को हराने के लिए और राय सिख बिरादरी के वोटों को काटने के लिए उक्त बिजनेसमैन द्वारा राय सिख बिरादरी से संबंधित व्यक्ति को लगभग 6 महीने पहले पार्टी में शामिल किया और टिकट दिला कर फाजिल्का से उम्मीदवार घोषित करवा दिया। जिसका सबूत खुद उम्मीदवार ने उक्त बिजनेसमैन का नाम लेकर धन्यवाद किया। आपको बता दें कि बीते दिन आम आदमी पार्टी के जिला दफ्तर में आम पार्टी के लगभग सभी पार्षदों के साथ उक्त उम्मीदवार ने मीटिंग के बाद एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी

इस मीटिंग में वार्ड नंबर 10 से आम आदमी पार्टी के टिकट पर पार्षद के चुनाव लड़ चुके सतपाल वाटस ने जब उम्मीदवार से उक्त बिजनेसमैन की तारीफ करने  की बात की तो उम्मीदवार कोई संतोषजनक उत्तर नहीं दे पाया। इससे साफ जाहिर होता है कि राय सिख बिरादरी को दो फाड़ करने वाली राजनीतिक पार्टियों की चाल  फूट डालो राज करो की नीति कहीं ना कहीं सच होती नजर आ रही है अब यह राय सिख बिरादरी और फाजिल्का की जनता को सोचना होगा कि कब तक वह राजनेताओं के इशारों पर अपनी वोट का गलत इस्तेमाल करते रहेंगे। दूसरी तरफ जनता का यह भी कहना है कि उक्त व्यक्ति एमएलए बनने की इच्छा रखता है कम से कम पहले एक एमसी का चुनाव लड़ के देख लेता तो उसको पता चल जाता कि वह कितने पानी में है।

134 Views

Leave a Reply

error: Content is protected !!