Latest news
व्यक्ति का कत्ल करने वाली एक परिवार के चार सदस्यों पर पर्चा दर... दहेज के लिए बहू को तंग परेशान करने वाले तीन ससुरालियों पर पर्च... धान का कुट्टल चोरी करने के मैसर्ज अक्षित राज नारंग एंड ट्रेेडि... सवना द्वारा जरूरतमन्द परिवार की लडकी के विवाह में किया गया सहय... पंजाब राज सफाई कर्मचारी कमीशन के चेयरमैन द्वारा जानीसर मामले क... अनाज मंडी में किसानों के साथ हो रही बेनियमियों के खिलाफ किसानो... 2 करोड़ रुपए की लागत से विकास कार्यो को विधायक आवला ने दी हरी ... दशहरे की तैयारियों को ले कर विधायक आवला द्वारा सामाजिक संस्थाओ... दशहरे पर केंद्र सरकार और मोदी के पुतले फूंके जाएंगे सवाह वाला में एनजीओ ने जरूरतमंद परिवार को मकान तैयार करके देने...

अकाली भाजपा गठबंधन टूटने से बिल्ली थैले से आई बाहर







-अकाली भाजपा गठबंधन टूटने से बिल्ली थैले से आई बाहर: अरूण वधवा

-अपने स्वार्थों की प्रतिपूर्ति होते ही दोनों ने खत्म कर लिया गठजोड़

-अकाली व कांग्रेस ने कभी भी नहीं किया कृषि आर्डिनैंस का विरोध

फाजिलका-(दलीप दत्त)-   कभी आपसी गठबंधन को नाखून मास का रिश्ता बताने वाले अकाली भाजपा ने एक बार फिर जनता को गुमराह करने की कोशिश में गठबंधन तोड़ लिया। लेकिन अब इनके थैले से बिल्ली बाहर आ गई है और जनता को भी इन दोनों की नीयत की समझ आ गई है। उक्त उद्गार आम आदमी पार्टी के सीनियर ट्रेड विंग नेता अरूण वधवा ने व्यक्त करते हुए कहा कि अकाली व भाजपा ने अपने स्वार्थों की पूति के लिये गठबंधन रखा था और उन्हें जनता के हितों की कोई परवाह नहीं थी। लेकिन जब दोनों के स्वार्थ पूरे हो गए और दोनों को गठबंधन से नुकसान दिखने लगा तो मिन्टों में ही गठबंधन खत्म कर लिया। श्री वधवा ने कहा कि अकाली दल को पंजाब में वोट बैंक खत्म होने के डर से गठबंधन तोडक़र जनता को गुमराह करने की कोशिश की गई है लेकिन जनता अब इनकी चालों से गुमराह नहीं होने वाली है। उन्होंने कहा कि भाजपा भी आज अपने अहंकार में आकर पंजाब को बर्बाद करने पर तुली हुई है। उन्होंने कहा कि आज पूरे पंजाब में कृषि आर्डिनैंस का भारी विरोध होने के बावजूद भाजपा ने राष्ट्रपति से साइन करवाने के बाद बिल का रूप दे दिया है। उन्होंने कहा कि पंजाब की जनता कभी भी अकाली, भाजपा और कांग्रेस को माफ नहीं करेगी क्योंकि इन तीनों राजनीतिक दलों की मिलीभगत से ही काला कानून पास हुआ है। अगर इन राजनीतिक दलों ने शुरूआत से ही तीनों आर्डिनैसों का विरोध किया होता तो आज यह बिल का रूप नहीं ले पाता। श्री वधवा ने कहा कि कांग्रेस और अकाली दल ने तीन आर्डिनैंसों को लेकर चुप्पी धारण करते हुए कभी भी विरोध नहीं किया लेकिन जब आम आदमी पार्टी व किसान संगठनों द्वारा संघर्ष की शुरूआत की गई तो अकाली व कांग्रेस को विरोध का ड्रामा करना पड़ा। श्री वधवा ने कहा कि आज अकाली दल, भाजपा की केन्द्र सरकार पर उन्हें अंधेरे में रखने व कृषि आर्डिनैंस के बारे में पूरी जानकारी न देने का आरोप लगा रहा है लेकिन उस समय अकाली दल ने ऐसे आरोप क्यों नहीं लगाए। आप नेता ने कहा कि अब चूंकि गठबंधन टूट चुका है और दोनों के आपसी स्वार्थ पूरे हो गए हैं तो एक दूसरे पर आरोप लगाने शुरू कर दिए हैं। उन्होंने कहा कि आज वो ही अकाली दल जो कुछ दिन पहले ऑर्डिनेंस का गुणगान कर रहा था , अब वो ही विरोध करने का ड्रामा कर रहा है। श्री वधवा ने पुन: कहा कि इन कृषि आर्डिनैंसोंं में ही नहीं बल्कि पंजाब व पंजाबियत के हितों तथा इससे जुड़े प्रत्येक संघर्ष में आम आदमी पार्टी पंजाब की जनता के साथ खड़ी थी, खड़ी है और हमेशा खड़ी रहेगी। उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों में भी किसान संगठनों द्वारा किए जाने वाले संघर्ष में आम आदमी पार्टी कंधा से कंधा मिलाकर संघर्ष करते हुए दिखाई देगी।

28 Views



Leave a Reply

error: Content is protected !!