पैसे के लेनदेन से परेशान व्यक्ति द्वारा सल्फास खाकर खुदकुशी का प्रयास, आधा दर्जन आरोपियों पर पर्चा

 

-उक्त मुद्दई द्वारा उस पर झूठा मुकदमा दर्ज करवाया गया-अनिल कुमार सिंगला 
फाजिल्का-(दलीप दत्त)-फाजिल्का में पैसे के लेनदेन से परेशान व्यक्ति द्वारा सल्फास खाकर खुदकुशी का प्रयास किया गया। पुलिस ने इस संबंध में आधा दर्जन आरोपियों पर पर्चा दर्ज किया है। जांच अधिकारी बेअंत सिंह ने बताया कि उनको अमित ठकराल पुत्र तिलक राज ठकराल वासी सोढिया वाली गली ने शिकायत दर्ज करवाई थी कि 17 अगस्त को वह अपने घर के नीचे बने दफ्तर में बैठा था और उसकी दुकान की मार्फत पर अनिल कुमार पुत्र साधू राम वासी एमसी कालोनी लोगों से चैकों के द्वारा पैसों का लेनदेन करता था। यह चैक वह अपनी पत्नी सुचिता सिंगला के चैक अमित ठकराल को देकर लेनदेन करता था जोकि पिछले 5-6 सालों से चला आ रहा था। उसने बताया कि फरवरी 2020 तक के हिसाब के मुताबिक अमित ठकराल ने अनिल कुमार से 20 लाख रुपए लेने थे। उसने बताया कि यह सारा हिसाब किताब एक पैन ड्राईव में लोड किया हुआ है और उसके पास फोन रिकार्ड भी हैं जिसमें टालमटोल की जा रही है तथा पैसे नहीं दिए जा रहे। कुछ समय बाद पंचायत हुई जिसमें 5 लाख रुपए का राजीनामा कर लिया गया। जब अमित ठकराल ने पैसे मांगे तो शैफाली पुत्री अनिल कुमार सिंगला, तुषार सिंगला पुत्र अनिल कुमार, सुचिता सिंगला पत्नी अनिल सिंगला, अनिल कुमार सिंगला पुत्र साधू राम वासी एमसी कालोनी, नवदीप अहूजा पुत्र नंद लाल वासी मलकाना मोहल्ला फाजिल्का और एक अज्ञात व्यक्ति ने उसके साथ लड़ाई झगड़ा किया व मारपीट की। जिससे तंग आकर अमित ठकराल ने सल्फास की गोलियां खा ली किंतु बाद में उपचार के दौरान उसकी जान बच गई। पुलिस ने शैफाली पुत्री अनिल कुमार सिंगला, तुषार सिंगला पुत्र अनिल कुमार, सुचिता सिंगला पत्नी अनिल सिंगला, अनिल कुमार सिंगला पुत्र साधू राम वासी एमसी कालोनी, नवदीप अहूजा पुत्र नंद लाल वासी मलकाना मोहल्ला आदर्श नगर गली नंबर 1 फाजिल्का और एक अज्ञात व्यक्ति मुकदमा नंबर 137 भारतीय दंड संहिता की धारा 116, 323, 506, 149 के अधीन पर्चा दर्ज कर लिया है।

-इस मामले पर क्या कहना है आरोपी अनिल कुमार का।

इस मामले पर जब आरोपी अनिल कुमार से बात की गई तो उसने बताया कि उक्त मुद्दई द्वारा उस पर झूठा मुकदमा दर्ज करवाया गया है। 5 लाख के लेनदेन में मेरे द्वारा उक्त मुद्दई को चेक दिए हुए हैं जिसमें मुद्दई ने दो लाख के चेक बैंक में लगा लिए हैं। उक्त मुद्दई किसी और बात से परेशान चल रहा था परंतु उसने मुझे और मेरे परिवार पर आरोप लगा कर झूठे मुकदमे में फंसाया गया है। जबकि मेरी बेटी शादीशुदा है और वह हमारे पास नहीं रहती।

133 Views

Leave a Comment

error: Content is protected !!