Latest news
गांव चक्क जानीसर में दलित नौजवान की मारपीट के मामले में पेशाब ... गुरूद्वारा श्री सिंह सभा और पैस्टीसाईड और खाद विक्रेताओं ने वि... कृषि कानून के विरोध में किसानों द्वारा विरोध प्रदर्शन जारी व्यक्ति का कत्ल करने वाली एक परिवार के चार सदस्यों पर पर्चा दर... दहेज के लिए बहू को तंग परेशान करने वाले तीन ससुरालियों पर पर्च... धान का कुट्टल चोरी करने के मैसर्ज अक्षित राज नारंग एंड ट्रेेडि... सवना द्वारा जरूरतमन्द परिवार की लडकी के विवाह में किया गया सहय... पंजाब राज सफाई कर्मचारी कमीशन के चेयरमैन द्वारा जानीसर मामले क... अनाज मंडी में किसानों के साथ हो रही बेनियमियों के खिलाफ किसानो... 2 करोड़ रुपए की लागत से विकास कार्यो को विधायक आवला ने दी हरी ...

पंजाब यूटी कर्मचारी और पैंशनर्ज सांझा फ्रंट के कर्मचारियों की भूख हड़ताल जारी







फाजिलका-(दलीप दत्त)-पंजाब के राज्य में जिला सदर मुकामों पर पंजाब यूटी कर्मचारी और पैंशनर्ज सांझा फ्रंट के फैसले अनुसार डीसी दफ्तर के गेट के सामने जिला फाजिल्का में चौदहवे दिन की भूख हड़ताल शुरू की गई। जिसकी अगवाई दी क्लास फोर गवर्नमेंट इंपलाइज यूनियन के जिलाध्यक्ष जोगिंदर सिंह ने अबोहर के साथी प्रधान सरबजीत सिंह ने की। भूख हड़ताल शुरू करने पर महासचिव सुखदेव सिंह, कुलबीर सिंह ढाबां, भुपिंदर सिंह, जलालाबाद से गुरमेल सिंह शामिल हुए और क्लास फोर के 21 साथियों को भूख हड़ताल पर बिठाया गया। भूख हड़ताल में बैठे साथी जुगिंदर सिंह, सरबजीत सिंह, हरी चंद, मखन सिंह, लाभ सिंह, देस राज, बूड़ सिंह, भुपिंदर सिंह, भाग सिंह, अंग्रेज सिंह, गुरसेवक सिंह, रंगील सिंह, दीप सिंह, गुरदीप सिंह, बलविंदर सिंह, पुशपिंदर सिंह, चैन सिंह, रमेश सिंह, नीलू राम, बलराम, अमी कुमार बैठे। भूख हड़ताल पर बैठे बड़ी संख्या में साथियों ने पंजाब सरकार का पिट सियापा किया और नारेबाजी की गई। भूख हड़ताल को संबोधित करते उन्होंने सख्त शब्दों में निंदा की और कैप्टन सरकार की कर्मचारी मारू नीति के विरोध में नारेबाजी की गई। उनके द्वारा पंजाब सरकार से मांग की गई कि कच्चे कर्मचारी पक्के किए जाएं, पुरानी पेंशन बहाल की जाए, डीए की किश्तें दी जाएं और बाकी बकाया दिया जाए, पे कमिश्नर की रिपोर्ट लागू करके नई भर्ती पक्के तौर पर की जाए, आउटसोर्स भर्ती बंद की जाए। नेताओं व साथियों ने पंजाब सरकार को चेतावनी दी कि यदि कर्मचारियों की मांगों की ओर ध्यान न दिया गया तो आने वाले दिनों में संघर्ष को और तेज किया जाएगा जिसके सरकार को गंभीर नतीजे भुगतने पड़ेंगे। फैडरेशन के नेता रजिंदर संधू ने संबोधित करते सरकार को चेतावनी दी कि यदि कर्मचारियों ने मांगों की ओर ध्यान न दिया तो 19 अक्त्ूबर को जिला फाजिल्का से जेल भरो आंदोलन में बड़ी संख्या में कर्मचारी शामिल होंगे।

30 Views



Leave a Reply

error: Content is protected !!