Latest news
गांव चक्क जानीसर में दलित नौजवान की मारपीट के मामले में पेशाब ... गुरूद्वारा श्री सिंह सभा और पैस्टीसाईड और खाद विक्रेताओं ने वि... कृषि कानून के विरोध में किसानों द्वारा विरोध प्रदर्शन जारी व्यक्ति का कत्ल करने वाली एक परिवार के चार सदस्यों पर पर्चा दर... दहेज के लिए बहू को तंग परेशान करने वाले तीन ससुरालियों पर पर्च... धान का कुट्टल चोरी करने के मैसर्ज अक्षित राज नारंग एंड ट्रेेडि... सवना द्वारा जरूरतमन्द परिवार की लडकी के विवाह में किया गया सहय... पंजाब राज सफाई कर्मचारी कमीशन के चेयरमैन द्वारा जानीसर मामले क... अनाज मंडी में किसानों के साथ हो रही बेनियमियों के खिलाफ किसानो... 2 करोड़ रुपए की लागत से विकास कार्यो को विधायक आवला ने दी हरी ...

पराली न जलाने के लिए किसान जागरूकता के लिए प्रचार वाहन रवाना किए







फाजिलका-(दलीप दत्त)-  बुधवार को फाजिल्का के डिप्टी कमिश्नर अरविन्द पाल सिंह संधू ने कृषि और किसान कल्याण विभाग के 6 प्रचार वाहनों को हरी झंडी दिखा कर रवाना किया। यह वाहन जिले के गांवों में किसानों को पराली को जलाने की बजाय कृषि विभाग द्वारा बताए गए तरीकोंa से पराली का निपटारा करने के लिए वाहीवानों को जागरूक करेंगे। इस मौके डिप्टी कमिश्नर अरविन्द पाल सिंह संधू ने जानकारी देते बताया कि राज्य सरकार द्वारा किसानों की मदद के लिए हर कोशिश की जा रही है। उन्होंने कहा कि पिछले तीन सालों में जिले में 2190 नई मशीनें सब्सिडी और उपलब्ध करवाई गई हैं। उन्होंने कहा कि पराली की सही तरीके से संभाल की जाए तो इससे जमीन की उपजाऊ शक्ति बढ़ती है और किसान की आमदन में वृद्धि का कारण बनती है। उन्होंने किसानों से अपील की कि वह लम्बे समय के लिए टिकाऊ खेती माडल को समझें क्योंकि हमारी अगली पीढियों ने भी इसी जमीन और खेती करनी है। इस लिए लाजिमी है कि हम अपनी जमीन के स्वास्थ्य के साथ खीलवाड़ न करें और आग लगा कर जमीन के खुराकी तत्व नष्ट न करें। 

डिप्टी कमिश्नर अरविन्द पाल सिंह संधू ने कहा कि खेतबाड़ी विभाग को हिदायत की गई है कि वह किसानों का हर तरीके से मार्गदर्शन करे। उन्होंने यह भी कहा कि इस साल बिना एसएमएस वाली कम्बाइन के साथ धान की कटाई की आज्ञा नहीं होगी और ऐसी कम्बाईन जब्त कर ली जाएगी। उन्होंने किसानों से अपील की कि सूखे धान की ही कटाई की जाए। इस मौके मुख्य कृषि अधिकारी सुरिन्दर सिंह ने कहा कि इस बार कोरोना की महामारी कारण जरूरी है कि धान की पराली को बिल्कुल न जलाया जाए क्योंकि इस के साथ कोविड मरीजों के लिए पराली का धुआं बड़ी समस्या बन सकती है। इस मौके सहायक कमिश्नर जनरल कंवरजीत सिंह, पराली प्रबंधन नोडल अधिकारी सरवन कुमार, परमिन्दर सिंह आदि भी उपस्थित थे। 

31 Views



Leave a Reply

error: Content is protected !!