एनएचएम कर्मचारियों के वेतन को 6वें पे वित्त कमिशन की सिफारशों अनुसार रेगुलर किए जाए- राजेश कुमार

फाजिलका-(दलीप दत्त)-स्वास्थ्य विभाग के नेशनल हैल्थ मिशन अधीन काम करते 9000 के करीब ठेका कर्मचारी जिस में आउटसोर्स कर्मचारी भी शामिल हैं। यह कर्मचारी पिछले कई सालों से स्वास्थ्य विभाग में बहुत ही कम वेतन पर सेवाएं दे रहे हैं और अपनी, जान जोखिम में डाल कर करोना की जंग पूरी तनदेही के साथ लड़ रहे हैं। इस संबंधी पत्रकारों के साथ जानकारी सांझी करते हुए नेशनल हैल्थ मिशन के ( जिला कार्यक्रम अधिकारी) राजेश कुमार ने बताया कि पिछले कुछ दिनों से इन ठेका कोरोना योद्धाओं ने पंजाब सरकार खिलाफ रेगुलर की मांग को ले कर हड़ताल का बिगुल बजाया हुआ है। इन कर्मचारियों ने तिथि 27 अप्रैल को पंजाब सरकार को चेतावनी के रूप में एक दिन की सांकेितक हड़ताल की थी और अब यह ठेका कोरोना योद्धा तिथि 4 मई 2021 से एमरजैसी सेवाएं, वैक्सीनेशन, सैंपलिंग, रिपोर्टिंग आदि बंद करके अनिश्चतकालीन समय के लिए हड़ताल पर चले जाएंगे। इन कर्मचारियों ने फैसला लिया है कि जब तक पंजाब सरकार इन कर्मचारियों की सेवाएं रेगुलर करने का नोटीफिकेशन जारी नहीं करती तब तक हड़ताल वाली दरी से नहीं उठेंगे। पंजाब सरकार जुलाई महीने 6वें पे वित्त कमीशन लागू करने जा रही है। पंजाब के अलग अलग विभागों में राज्य और केंद्रीय स्कीमों के अंतर्गत बहुत सारे कर्मचारी ठेके और अन्य आउटसोर्स एजेंसियों द्वारा अपनी, सेवाएं निभा रहे हैं। वेतन कम होने के कारण उक्त कर्मचारी ठेका कर्मचारी होने के कारण कम वेतन पर काम करने की मार का साथ-साथ मौजूदा समय में महंगाई की मार भी सह रहे हैं। इन ठेका कर्मचारियों ने स्वास्थ्य विभाग के उच्चाधिकारियों को बार बार अपील की हैं परंतु विभाग द्वारा अभी तक कर्मचारियों के हालातों को सुधारने संबंधी कोई फैसला नहीं लिया गया। इस तरह लगता है कि पंजाब सरकार कोरोना की महामारी की जंग में काम कर रहे ठेका कर्मचारियों का पेट केवल मीठी गोलियों और लोलीपोप दे कर ही भरना चाहती है। कोविड दौरान बहुत सारे कर्मचारी कोरोना पोजिटिव भी हुए हैं और कोरोना के कारण कई लोगों की जान भी जा चुकी है। एनएचएम जत्थेबंदी द्वारा पंजाब सरकार को अंतिम अपील की जाती है कि वह तुरंत 6वें वित्त कमिशन की सिफारिशों का लाभ ठेका कर्मचारियों को देने संबंधी खरड़ा तुरंत पास करे और रेगुलर कर्मचारियों के साथ एक जुलाई से इस की अदायगी करे। इस के साथ ही माननीय मुख्य मंत्री पंजाब जी को उन के अपने मुंह के शब्द जो कि पिछली कोविड लड़ाई दौरान बोले गए थे कि कोरोना की जंग जीतने के बाद समूह ठेका कर्मचारियों को रेगुलर करने का बनता इनाम दिया जाएगा। यह बात याद करवाना है हुए इन कर्मचारियों को तुरंत रेगुलर करने की मांग की जाती है जिससे कोरोना की दूसरी लहर का खात्मा करने में यह ठेका कर्मचारी युद्धस्तर पर लड़ते हुए पूरी तनदेही और सच्चे दिल से पंजाब सरकार का साथ दे सकें। इस अवसर पर बलजीत सिंह, राजेश कुमार, जसपिंदर कौर, श्वेता, टिंकू, नीरज रानी, सुरिंदर कौर, मलकीत सिंह, सुखदेव सिंह, सिमरनजीत कौर, डा. यूनिक गुप्ता आदि मौजूद थे। 

45 Views

Leave a Comment




error: Content is protected !!