पराली को जलाने से रोकने के लिए नोडल अफसर और कलस्टर अधिकारी किए नियुक्त: डिप्टी कमिश्नर

फाजिलका-(दलीप दत्त)-फाजिल्का जिले में पराली न जलाने के लिए किसानों को जागरूक करने हेतु गांवों में नोडल अफ़सर और कलस्टर अफसर लगाए गए हैं। इस के अलावा गांव स्तर पर बनाई गई टीम में नोडल अफसर के साथ पटवारी और पुलिस विभाग का एक नुमायंदा भी शामिल किया गया है। यह जानकारी आज फाजिल्का के डिप्टी कमिश्नर अरविंद पाल सिंह संधू ने दी है। डिप्टी कमिश्नर ने कहा क संबंधी उप मंडल के एस.डी.एम. अपने उप मंडल में पराली जलाने से रोकने के लिए चलाई जाने वाली इस मुहिम की निगरानी करेंगे। डिप्टी कमिश्नर अरविंद पाल सिंह संधू ने बताया कि जिले में पराली की संभाल के लिए जहां कृषि विभाग के नेतृत्व में किसानों को जागरूक करने की मुहिम शुरू कर दी है, वहीं किसानों को पराली जलाने से रोकने के लिए 280 नोडल अफसर और 30 कलस्टर अफसर तैनात कर दिए गए हैं। किसानों को जागरूक करने के लिए टीमों में कृषि विभाग के अलावा बिजली विभाग, माल विभाग, पुलिस विभाग, पंचायती विभाग, बागबानी विभाग और प्रदूषण विभाग को शामिल किया गया है, जितना का सीधा संपंर्क किसानों के साथ होता है। डिप्टी कमिश्नर ने कहा कि यह टीमें गांवों में जा कर किसानों को धान की पराली को आग न लगाने बारे जागरूक करेंगी। यह टीमें पराली को आग लगाने से जमीन पर क्या बुरे प्रभाव पड़ते हैं, मनुष्य और पक्षियों पर पड़ने वाले बुरे प्रभाव आदि बारे किसानों को जागरूक करेंगी और गांवों में किसानों के साथ सीधा संपंर्क कायम करके उन को पराली जलाने के बुरे प्रभावों बारे जागरूक करेंगी। उन्होंने कहा कि यह टीमें किसानों को शपथ ग्रहण करने के लिए प्रेरित भी करेंगी कि वह धान की पराली को आग न लगाए। उन्होंने कहा कि इन टीमों द्वारा किसानों को आधुनिक यंत्रों बारे अधिक से अधिक जानकारी दी जाएगी जिन की मदद से पराली का निपटारा किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि स्कूलों और कालेजों में पढ़ते बच्चों का साथ भी इस मुहिम में लिया जाएगा क्योंकि बच्चे अपने परिवारों को पराली की आग से होने वाले नुकसान को आसानी के साथ समझा सकते हैं।

30 Views

Leave a Comment

error: Content is protected !!