विधायक रमिन्दर आवला ने गांव रोड़ा वाला में पक्के खालों का किया उदघाटन

जलालाबाद/फाजिलका-(दलीप दत्त)-ग्रामीण विकास पर पंचायत विभाग पंजाब अधीन मनरेगा स्कीम के अंतर्गत विधायक जलालाबाद रमिन्दर सिंह आँवला ने गाँव रोड़ा वाला में पक्के खालों का उदघाटन किया। विधायक आँवला ने बताया कि पंजाब सरकार की तरफ से लोगों को हर पक्ष से सुविधाएं मुहैया करवाई जा रही हैं। उन्होंने बताया कि गाँव रोडांवाला में अब 36.61 लाख की लागत से तैयार पक्के खालों का उद्घाटन किया गया है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार की पुरजोर कोशिश है कि लोगों तक हर संभव सहूलतें मुहैया करवाई जाएं। उन्होंने बताया कि हलके में विकास कार्यों को और तेज कर दिया गया है और कुछ दिनों में ही रहते विकास कार्य जल्दी मुकम्मल किए जाएंगे। इस मौके हरपंच हरमेश लाल, भोला सिंह मानक, कुलविन्दर सिंह, सुरिन्दर सिंह, राम चंद, निवान सिंह, बलदव राज, जंगीर चंद, गुरप्रीत विर्क, बलजीत लद्धू वाला उपस्थित थे।  धान की पराली और अवशेष को आग लगाने पर पाबंदी के आदेश फाजिल्का-जिला मैजिस्ट्रेट अरविन्द पाल सिंह संधू ने फौजदारी ढंड संहिता 1973 की धारा 144 के अंतर्गत प्राप्त अधिकारों की इस्तेमाल करते हुए ज़िला फाजिल्का में धान की पराली /अवशेष को आग लगाने पर पाबंदी के आदेश दिए हैं। यह आदेश 22 नवंबर 2021 तक लागू रहेंगे।इन आदेशों का उल्लंघन करने पर सख्त कार्यवाही की जाएगी। जिला मैजिस्ट्रेट की तरफ से मौजूदा साल 2021 की फसल धान की कटाई शुरू की जा चुकी है देखने में आया है कि धान की फसल काटने के उपरांत जमीन मालिकों की तरफ से धान की अवशेष को आग लगा दी जाती है। जिससे नुकसान होने का अंदेशा बना रहता है। हवा में धुएं से बहुत प्रदूषण फैलता है, जिस से साँस की बीमारियां हो सकतीं हैं। अवशेष को आग लगने से जमीन की उपजाऊ शक्ति घटती है। इससे आसपास खड़ी फसल या गांव में आग लगने का डर रहता है। जिससे कई बड़े हादसे भी घट सकते हैं। सड़क के आसपास अवशेष को आग लगाने से यातायात में विघ्न पड़ता है और कई हादसे हो जाते हैं। इस के साथ गाँवों में लड़ाई झगड़ा होने का डर भी रहता है। इस को रोकना लोक हित में बहुत जरूरी है।

54 Views

Leave a Comment

error: Content is protected !!