Latest news
Zee5 की नई वेब सीरीज 'कातिल हसीनाओं के नाम' में दिखेंगी कई पाकिस्तानी अभिनेत्रियां क्या रांची में खेला जाएगा भारत व न्यूजीलैंड के बीच दूसरा T20 मुकाबला बंटी और बबली 2' की चुनौती से पहले 'सूर्यवंशी' बॉक्स ऑफिस पर कमा चुकी इतने करोड़ कैश में लीड रोल में नजर आने वाले अमोल पराशर बोले- मैं मुबंई यह सोच के नहीं आया था कल होगा साल का अंतिम चंद्र ग्रहण, जानिए भारत में कब-कहां और कितने बजे देगा दिखाई श्री करतारपुर साहिब कॉरिडोर खोलने पर बेदी परिवार ने मोदी सरकार का जताया आभा पंजाब में कांग्रेस को झटका, एक और हिंदू नेता अनीश सिडाना अकाली दल में हुए शामिल Google Pay से पैसों का लेनदेन होगा आसान ਜ਼ਿਲ੍ਹਾ ਬਾਲ ਸੁਰੱਖਿਆ ਦਫ਼ਤਰ ਵੱਲੋਂ ਕਰਵਾਈ ਗਈ ਐਸਜੇਪੀਯੂ ਦੀ ਟ੍ਰੇਨਿੰਗ कोविड कारण मृतकों के वारिसों को मिलेगा 50 हजार रुपए मुआवजा -डिप्टी कमिश्नर

डेंगू सीजन को मद्देनजर रखते एडीसी ने स्वास्थ्य विभाग और अलग-अलग विभागों के मुखियों के साथ की मीटिंग

फाजिलका-(दलीप दत्त)-डेंगू सीजन को मद्देनजर रखते एडीसी जनरल अभिजीत कपलिश ने जिला फाजिल्का के अलग-अलग विभागों के मुखियों के साथ मीटिंग की, जिस दौरान उन्होंने अलग-अलग सरकारी विभागों और शिक्षण संस्थानों को अपना आसपास साफ-सुथरा रखने के लिए कहा गया। मीटिंग दौरान उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ डेंगू के लार्वे को नष्ट करने और इस के इलाज संबंधी विचार विमर्श किया। इस मौके सिविल सर्जन फाजिल्का डा. दविंदर ढांडा विशेष तौर पर उपस्थित थे। एडीसी ने बताया कहा कि स्कूलों, कालेजों, और दफ्तरों में जा कर छतों पर पड़े हुए बिना ढक्कन वाली टंकियों, घरों पर पड़े पुराने बर्तनों में और ब्लाक सीवरेज के कारण खड़े हुए पानी में डेंगू के लार्वे की चैकिंग जरूर की जाए। उन्होंने मीटिंग दौरान बताया कि बरसाती मौसम में आसपास पानी खड़ा हो जाता है जो कि मच्छरों के वृद्धि का संयोग बनता है, इस लिए सरकारी और प्राईवेट स्कूल,कालेज और दफ्तर अपना आसपास साफ-सुथरा रखें और किसी भी ब्लाक सीवरेज में पानी खड़ा होने से रोकें, क्योंकि डेंगू का लारवा एक हफ्ते में मच्छर के रूप में परिवर्तित हो जाता है, ऐसे मौसम में डेंगू से बचाव के लिए अधिक सावधानियों की जरूरत होती है। डेंगू रोग एडीज इजिपटिस मच्छर के काटने से होता है, यह एक वायरल बीमारी है,जिस में तेज बुख़ार,सिर दर्द,आंखों के पिछले भाग में दर्द, शरीर और जोड़ों में अहसनीय दर्द आदि लक्षण प्रकट हो सकते हैं। मीटिंग दौरान उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी ई.ओ. और सैनेट्री इंस्पेक्टरों के साथ तालमेल करके हर रोज फोकस एरिया की लिस्ट तैयार करेंगे और लिस्ट मुताबिक फौगिंग करवाएंगे। उन्होंने कहा कि प्राईवेट लैबों में डेंगू का टैस्ट करवाने वाले मरीजों का डाटा भी इकट्ठा किया जाए। उन्होंने कहा कि डेंगू संबंधी लोगों को बढ़िया सेवाएं उपलब्ध करवाने के लिए एक हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया जाए। उन्होंने कहा कि जो डेंगू के मरीज जिले में पाए जाते हैं उन के साथ संबंधित अधिकारी दिन में दो बार जरूर तालमेल करें और उन को पेश आ रही किसी भी तरह की मुश्किलों का हल करें। इस सिलसिले में जिले में डेंगू कंट्रोल प्रोग्राम बारे सिविल सर्जन डा. दविंदर ढांडा ने जानकारी देते हुए बताया कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा सरकारी और प्राईवेट स्कूलों, कालेजों और दफ्तरों में जाकर छतों पर पड़े हुए बिना ढक्कन की टंकियों, पुराने बर्तनों में और ब्लाक सीवरेज के कारण खड़े हुए पानी में पैदा हुआ डेंगू के लार्वे को मौके पर नष्ट किया जाता है, इस के साथ ही स्वास्थ्य विभाग द्वारा हर शुक्रवार को ड्राई डे मनाया जाता है और एंटीलारवा स्प्रे भी की जाती है। सिविल सर्जन ने कहा कि इस को फैलाने वाले मच्छर ले जाए साफ पानी में बढ़ते हैं और यह दिन समय काटते हैं। डेंगू बीमारी की जांच और इलाज सरकारी अस्पतालों में मुफ्त उपलब्ध है। उन्होंने यह भी कहा कि मच्छरों के काटने से बचाव के लिए शरीर को पूरी तरह कवर करने वाले कपड़े पहनने चाहिएं और मच्छरदानियों का इस्तेमाल करना चाहिए। व्यक्ति को तेज बुखार, शरीर दर्द की सूरत में नजदीक के स्वास्थ्य केंद्र के साथ संपंर्क करना चाहिए। इस मौके यह एम ओ जलालाबाद डा. दविंदर कुमार, एसएमओ  खुईखेड़ा डा. रोहित गोयल, एसएमओ फाजिल्का डा. विकास गांधी, जिला महामारी अफसर डा, अमित गुगलानी और डा. सुनीता आदि उपस्थित थे।

28 Views

Leave a Reply