Latest news
गांव चक्क जानीसर में दलित नौजवान की मारपीट के मामले में पेशाब ... गुरूद्वारा श्री सिंह सभा और पैस्टीसाईड और खाद विक्रेताओं ने वि... कृषि कानून के विरोध में किसानों द्वारा विरोध प्रदर्शन जारी व्यक्ति का कत्ल करने वाली एक परिवार के चार सदस्यों पर पर्चा दर... दहेज के लिए बहू को तंग परेशान करने वाले तीन ससुरालियों पर पर्च... धान का कुट्टल चोरी करने के मैसर्ज अक्षित राज नारंग एंड ट्रेेडि... सवना द्वारा जरूरतमन्द परिवार की लडकी के विवाह में किया गया सहय... पंजाब राज सफाई कर्मचारी कमीशन के चेयरमैन द्वारा जानीसर मामले क... अनाज मंडी में किसानों के साथ हो रही बेनियमियों के खिलाफ किसानो... 2 करोड़ रुपए की लागत से विकास कार्यो को विधायक आवला ने दी हरी ...

जसबीर आवला ने अलग -अलग गंवों में सुनी लोगों की समस्याएं







जलालाबाद/फाजिलका-(दलीप दत्त)-    हलका विधायक रमिन्दर आवला के बड़े भाई और उद्योगपति जसबीर सिंह आवला सोमवार को अलग -अलग गावों में जनतक समस्याओं के समाधान के लिए दौरे पर रहे। इस दौरान उन्होंने गाव धरमूवाला, फत्तूवाला, जौधा भैनी, ढानी मान सिंह, चक्क बजीदा और अन्य गांवों की पंचायतों और आम लोगों के साथ मुलाकात की और उनकी समस्याओं को सुनते हुए कई समस्याओं का समाधान मौके पर करवाया। इस अवसर पर उनके साथ उद्योगपति अशोक नरूला, चेयरमैन बलकार सिंह, चेयरमैन रत्न सिंह, उप चेयरमैन ब्लाक समिति सुभाष कम्बोज, धीरज नरूला, धर्म सिंह सिद्धू व अन्य नेता मौजूद थे। इस अवसर पर बातचीत करते हुए जसबीर सिंह आवला ने कहा कि 27 सितंबर 2020 का दिन पंजाब के इतिहास में बुरा दिन आंका जाएगा क्योंकि इस दिन केंद्र सरकार की तरफ से लाए गए कृषि बिल पर हमारे देश के राष्ट्रपति जी ने अंतिम मोहर लगा कर इस को कानूनी रूप दे दिया। उन्होंने कहा कि देश के राष्ट्रपति होने के नाते उन्हें पंजाब के किसानों की आवाज को सुनते हुए एक बिल पर मोहर न लगाते हुए उसे दोबारा सदन में वापिस भेजना चाहिए था। जबकि ऐसा नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि हमारे देश की सरकार की नीयत में पंजाब के किसानों प्रति खोट नजर आ रही है तभी तो पंजाब के किसानों की आवाज को नजर अंदाज करके कृषि संबंधी तीन बिल कानून बनवा दिए गए। उन्होंने कहा कि पंजाब का किसान भविष्य में संघर्ष जारी रखेगा जबतक कि सरकार अपने फ़ैसले को बदल नहीं लेती। 

22 Views



Leave a Reply

error: Content is protected !!