Latest news
गांव चक्क जानीसर में दलित नौजवान की मारपीट के मामले में पेशाब ... गुरूद्वारा श्री सिंह सभा और पैस्टीसाईड और खाद विक्रेताओं ने वि... कृषि कानून के विरोध में किसानों द्वारा विरोध प्रदर्शन जारी व्यक्ति का कत्ल करने वाली एक परिवार के चार सदस्यों पर पर्चा दर... दहेज के लिए बहू को तंग परेशान करने वाले तीन ससुरालियों पर पर्च... धान का कुट्टल चोरी करने के मैसर्ज अक्षित राज नारंग एंड ट्रेेडि... सवना द्वारा जरूरतमन्द परिवार की लडकी के विवाह में किया गया सहय... पंजाब राज सफाई कर्मचारी कमीशन के चेयरमैन द्वारा जानीसर मामले क... अनाज मंडी में किसानों के साथ हो रही बेनियमियों के खिलाफ किसानो... 2 करोड़ रुपए की लागत से विकास कार्यो को विधायक आवला ने दी हरी ...

केन्द्रीय कृषि बिल के विरोध में विधायक रमिंदर आवला के नेतृत्व में विशाल टरैक्टर किसान रोष रैली ने जमा इकट्ठ ने दिखाया मोदी सरकार को आयना 







जलालाबाद/फाजिलका-(दलीप दत्त)- केन्द्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि बिल के विरोध में कांग्रेस पार्टी के विधायक रमिंदर आवला के नेतृत्व में शहर की अनाज मंडी में ट्रैक्टर किसान रोष रैली निकाली गई। इस रैली में दो हजार से अधिक ट्रैक्टरों पर सवार किसानों और कांग्रेसी वर्करों ने भाग लेते हुए केन्द्र सरकार के इस फैसले की सख्त विरोधता की। इस अवसर पर पूर्व सांसद शेर सिंह घुबाया, कांग्रेस पार्टी के जिला कार्यकारिणी प्रधान रंजम कामरा, जिला योजना बोर्ड चेयरमैन हंस राज जोसन, हलका अबोहर के इंचार्ज संदीप जाखड़ विशेष तौर पहुंचे और ट्रेक्टर किसान रैली का हिस्सा बने। ट्रैक्टर किसान रैली की शुरूआत विधायक रमिंदर आवला ने किसानों के अधिकारों और मोदी सरकार के खिलाफ नारेबाजी करके की गई। मीडिया के साथ बातचीत करते विधायक रमिन्दर आवला ने कहा कि मुख्य मंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह और प्रांतीय अध्यक्ष सुनील कुमार जाखड़ के नेतृत्व में राज्य के किसानों के हकों की लड़ाई को केंद्र के कानों तक पहुंचाने के लिए केंद्र की एनडीए सरकार द्वारा लाए गए कृषि बिल के विरोध में ट्रैक्टर किसान रोष रैली निकाली गई है। जिस में बड़ी संख्या में किसान, मजदूरों, आढतियों और अन्य पेशे के लोगों के अलावा कांग्रेसी वर्करों ने भाग ले कर साबित कर दिया है कि केंद्र के विरोधी फैसले को किसी भी कीमत पर लागू नहीं होने दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस किसानों के अधिकारों की रक्षा हेतु अगर बलिदान भी देना पड़ा तो दिया जाएगा। विधायक आवला ने कहा कि जब केंद्र द्वारा कृषि बिल कैबिनेट में लाया गया तो तब हरसिमरत कौर बादल कैबिनेट का हिस्सा था और इस मुद्दे पर तीन महीने लगातार चर्चा होती रही और इस बिल को कैबिनेट में से पास करवाने में सहमति दी। परन्तु मुख्य मंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह और सुनील कुमार जाखड़ के समूह कांग्रेस लीडरशिप ने इस बिल के विरोध में प्रस्ताव डाल कर रद्द कर दिया परन्तु किसानों के बढ़ते रोष और बादल परिवार का घेराव होने के डर के कारण केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने इस्तीफे का नाटक रच दिया जबकि इन को पहले ही विरोध करके भाजपा के साथ गठजोड तोडऩा चाहिए था और यह गठजोड अभी तक बरकरार है। विधायक आवला ने बीते दिनों सुखबीर बादल के पुराने राजनैतिक सलाहकार परमजीत सिंह सिंधवा द्वारा लिखी चि_ी ने स्पष्ट कर दिया कि बादल परिवार के हित किसानों और आम लोगों के लिए नहीं बल्कि परिवारवाद की राजनीति को बरकरार रखने के लिए हैं। उन्होंने कहा कि अकाली-भाजपा सरकार समय जवानी को चिट्टा मार गया और कृषि को चिट्टी मक्खी खा गई। जिस कारण इन से दुखी पंजाब कर लोगों ने इन को चुनाव में चलता किया और 100 साल पुरानी पार्टी को तीसरे नंबर पर ला खड़ा किया।

विधायक आवला ने कहा कि पंजाब के हितों की रक्षा के लिए कैप्टन अमरिन्दर सिंह हमेशा ही सख्त फैसले लिए हैं चाहे वह पंजाब के पानियों का मसला हो चाहे किसान कृषि बिल के विरोध में फैसला लेने की बात हो काग्रेस पार्टी ने किसानों के हकों के लिए अपना फर्ज निभाया है। विधायक आवला ने कहा कि पंजाब के लोगों ने हमेशा ही देश को बाहरी ताकतों के हमले से बचाया है और इस बहादुर कौम अपने हक लेना जानती है। इस लिए केंद्र सरकार को इस बिल और फिर से विचार करते हुए कृषि बिल को रद्द करना चाहिए और हमारी देश के राष्ट्रपति को भी अपील है कि इसके पास के हस्ताक्षर न किये जाएं और इस बिल को दोबारा सदन में भेज कर चर्चा करवाई जाए ताकि किसानों विरोधी बिल रद्द हो सके। इस अवसर पर संदीप जाखड़ ने कहा कि पंजाब में रैलियां तो देखी हैं लेकिन आज की इस ट्रेक्टर रैली ने साबित कर दिया है कि विधायक रमिंदर आवला का क्षेत्र में कम समय में हरेक वर्ग के साथ नाता अटूट बन गया है और किसानों के साथ हम खड़े हैं और खड़ेे रहेंगे। इस अवसर पर सांसद शेर सिंह घुबाया ने कहा कि केन्द्र द्वारा लाए गए कृषि बिल गलत दिशा की ओर कदम है और किसानों को हम अकेला नहीं छोड़ेंगे और कांग्रेस पार्टी किसानों के अधिकारों की रक्षा के लिए हर संभव कदम उठाएगी। इस अवसर पर पूर्व वन मंत्री हंस राज जोसन ने कहा कि मैं खुद किसान हूं और किसान को किन मुश्किलों से गुजरना पड़ता है इससे भलिभांति अवगत हूं लेकिन मोदी सरकार ने धक्केशाही से ये बिल पास किया है जो हम किसी भी तरह इसेे स्वीकार नहीं करेंगे और जब तक ये बिल रद्द नहीं होता वे इसी तरह संघर्ष करते रहेंगे। इस मौके राज बख्श कम्बोज, बलकार सिंह, हैपी संधू,सुखविन्दर सिंह काका कम्बोज, यूथ कांग्रेस के जिला प्रधान रूबी गिल आढ़तिया एसोसिएशन के प्रांतीय उप प्रधान शाम सुंदर मैनी, चेयरमैन जरनैल सिंह मुखीजा, प्रधान चंद्र प्रकाश खैरेके, प्रधान हनी पुपनेजा, राज पाल चहल, ब्लाक समिति चेयरमैन हरकंवलजोत,चेयरमैन रत्न सिंह,किसान नेता प्रेम कम्बोज, डा. गुरचरन कम्बोज, राधा कृष्ण, उप चेयरमैन सुभाष कालूवाला, डा. बीडी कालड़ा, लेबर यूनियन के प्रधान राजू पटवारी, दीपक आवला, यूथ नेता जतीन आवला, जोनी आवला, गोबिंद आवला, सचिन आवला, सुमित आवला, बिट्टू सेतिया, विक्की धवन, रोमा आवला, राजेश आवला मौजूद थे।

19 Views



Leave a Reply

error: Content is protected !!