Latest news
ਬੱਲੂਆਣਾ ਦੇ ਵਿਧਾਇਕ ਨੇ ਹਲਕੇ ਦੇ ਪਿੰਡ ਰਾਮਕੋਟ ਦਾ ਦੌਰਾ ਕਰਕੇ ਲੋਕਾਂ ਦਾ ਕੀਤਾ ਧੰਨਵਾਦ सिद्धू मूसेवाला की मौत आप सरकार की पूरी तरह नाकामी, सीएम मान और केजरीवाल का पुतला फूंका मूसेवाला हत्याकांड उत्तराखंड पुलिस ने हेमकुंड से लौट रहे 6 संदिग्‍धों को पकड़ा ਮੁੱਖ ਮੰਤਰੀ ਪੰਜਾਬ ਵੱਲੋਂ ਕੀਤੀ ਗਈ ਸਿਹਤ ਮੰਤਰੀ ਦੀ ਕਾਰਵਾਈ ਤੋਂ ਬਾਅਦ ਕਈਆਂ ਐਮਐਲਏ ਦੇ ਹੱਥ ਪੈਰ ਫੁੱਲੇ। फाजिल्का निवासी पवन ग्रोवर व सीमा ग्रोवर की आज शादी की 25 वीं वर्षगांठ जन्मदिन की शुभकामनाएँ उत्तर कोरिया ने जापान सागर में फिर दागी मिसाइल परमाणु परीक्षण करने की जताई गई आशंका दहेज के लिए परेशान करने वाले पति पर पर्चा दर्ज 3 ऐसे फूड्स जिन्हें खाकर 119 साल तक जीवित रहीं दुनिया की सबसे बुजुर्ग महिला केन तनाका विमल के विज्ञापन पर विवाद के बाद अक्षय कुमार ने मांगी माफी कहा कि मैं विज्ञापन के सारे पैसे किसी की ...

सिंचाई के लिए भूमिगत पाइप बिछाने पर सरकार देती है 90 फीसदी तक सब्सिडी

फाजिलका-(दलीप दत्त)-सरकार द्वारा किसानों के लिए सामूहिक रूप से जमीनदोज पाइप लाइन बिछाने पर 90 प्रतिशत तक अनुदान प्रदान कर रही है। यह जानकारी फाजिल्का के डीसी डॉ. हिमांशु अग्रवाल ने भूमि रक्षा विभाग के कामकाज की समीक्षा के लिए बुलाई बैठक के बाद दी। डीसी ने कहा कि इस परियोजना के तहत किसान संयुक्त रूप से अपनी सिंचाई की पानी की जरूरत के लिए पाइप लगा सकते हैं। इस संयुक्त परियोजना की लागत का 90 प्रतिशत सरकार भुगतान करती है और किसान के समूह ने केवल 10 प्रतिशत योगदान देना होता है। उन्होंने स्कीम का लाभ लेने की अपील किसानों को करते कहा कि इस तरीके से सिंचाई के लिए खेतों तक पूरा पानी पहुंचता है और किसानों की आय में वृद्धि होती है। मंडल भूमि रक्षा अधिकारी गुरिंदर सिंह ने कहा कि किसान इस योजना के लाभ के लिए भूमि रक्षा विभाग के कार्यालय में आवेदन कर सकते हैं। किसान टयूबवैल या नहर के पानी के उपयोग के लिए जमींदोज पाइप की स्थापना के लिए आवेदन कर सकते हैं। इसके तहत, पाइप लाइन की लंबाई कितनी भी हो सकती है, लेकिन विभाग पूरी तरह से मामले की जांच करता है कि परियोजना चलने वाला है या नहीं। उसके बाद जिला प्रबंधकीय कमेटी की प्रवाणगी के बाद केस पास हो जाता है। 

        

उन्होंने कहा कि इससे किसानों को सिंचाई के लिए अच्छा पानी मिल सकेगा जिससे उनकी फसल की पैदावार बढ़ेगी और किसान समृद्ध होंगे। उन्होंने कहा कि इस तरह नहरों में पानी की बर्बादी रुकती है और खाल भरने से खराब होने वाला पानी भी बचता है क्योंकि पाइप तो पानी से भरी रहती है और जब एक बार पानी एक तरफ से छोड़ दिया जाता है तो दूसरी तरफ से पानी की सप्लाई शुरू हो जाती है। उन्होंने कहा कि इसके अलावा एक किसान को भूमिगत पाइप लगाने पर भी 50 प्रतिशत अनुदान मिलता है। बैठक में मुख्य कृषि अधिकारी रेशम सिंह, कृषि अधिकारी गुरमीत सिंह चीमा, भूमि रक्षा अधिकारी बजरंग बली, एसडीओ सुखदर्शन सिंह आदि भी उपस्थित थे।

16 Views
error: Content is protected !!