चार्ज शीट अध्यापक को पहले किया सम्मानित फिर 2 दिन बाद किया तबादला

-दोष सूची पैंडिंग होने के बावजूद उन का नाम प्रशंसा पत्र के लिए भेजा है,वह उनके खिलाफ कार्यवाही के लिए ही विभाग को शिकायत करेंगे-तरुण वधवा

फाजिलका-(दलीप दत्त)- शिक्षा विभाग के कारनामे हमेशा चर्चा में रहते हैं। ऐसा ही एक मामला फाजिल्का के सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल लड़के फिजिक्स लैक्चरर सन्दीप खुंगर के मामले में देखने को मिला है। सन्दीप खुंगर को तिथि 12 -10 -2020 को श्री कृष्ण कुमार द्वारा प्रशंसा पत्र के साथ सम्मानित किया गया था जबकि मिली जानकारी अनुसार इस लैक्चरर को दफ्तर डायरैक्टर शिक्षा विभाग ने अपने आदेश नंबर 10 /16 -2020 अ -1(6) तिथि 15 -05 -2020 के द्वारा पंजाब सिविल सेवा (सजा और अपील) नियमावली,1970 की धारा 8 के नियम 5(5 से 6 तक) के अंतर्गत दोष सूची जारी की हुई है। इस नियम के अंतर्गत दोष सूची जारी होने वाले कर्मचारी को प्रशंसा पत्र देना यह साबित करता है कि इस विभाग के अधिकारियों का आपस में कोई तालमेल नहीं है और जिस कर्मचारी को सम्मानित किया जाता है उसका कोई सर्विस रिकार्ड चैक नहीं किया जाता है। शिक्षा विभाग का अजूबा यहा खत्म नहीं हुआ। जिस सन्दीप खुंगर, फिजिक्स लैक्चरर को तिथि 12 -10 -2020 को प्रशंसा पत्र दिया गया था,उन को ठीक दो दिन बाद तिथि 14 -10 -2020 को सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल लड़के,फाजिल्का से बदल कर अब श्री गुरु अर्जुन देव सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल (कन्या),तरनतारन में तैनात कर दिया है। इस आदेश अनुसार उन की यह बदली उनके खिलाफ चल रही शिकायत के दोष साबित होने पर की गई है।

क्या है मामला

कुछ महीने पहले फाजिल्का के इंजीनियर और आर टी आई एक्टीविस्ट तरुण वधवा ने संदीप खुंगर फिजिक्स लैक्चरर, सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल (लड़के),फाजिल्का की एक शिकायत शिक्षा सचिव पंजाब को की थी कि वह फाजिल्का में आयरेक्स अकैडमी चलाते हैं जबकि सरकारी अध्यापक प्राईवेट काम नहीं कर सकता है। तरुण वधवा की इस शिकायत पर विभाग ने उनकी बदली तरनतारन जिले में कर दी थी और उसके बाद सन्दीप खुंगर ने माननीय पंजाब और हरियाणा में सिविल रिट पटीशन नंबर 7411 आफ 2020 के अंतर्गत रिट दायर कर दी कि माननीय अदालत द्वारा इन को स्टे दे दिया थी। इस के बाद माननीय अदालत ने इस रिट के तिथि 04 -09 -2020 को अपने फैसले के द्वारा विभाग को तिथि 15 -10 -2020 तक सन्दीप खुंगर को नए तौर पर आर्डर जारी करने के लिए कहा था। सन्दीप खुंगर को विभाग ने आयरैक्स अकैडमी चलाने के दोष के अंतर्गत पंजाब सिविल सेवा (सजा और अपील) नियमावली,1970 की धारा 8 के नियम 5(5 से 9 तक) के अंतर्गत दोष सूची जारी की थी। अदालत के आदेश की पालना करते हुए और दोष सूची के दोष सिद्ध होने पर सन्दीप खुंगर की बदली अब तरनतारन जिले में कर दी गई है। 

शिकायतकर्ता इंजीनियर और आर टी आई एक्टीविस्ट तरुण वधवा का कहना है कि जिस अधिकारी ने दोष सूची पैंडिंग होने के बावजूद उन का नाम प्रशंसा पत्र के लिए भेजा है,वह उनके खिलाफ कार्यवाही के लिए आज ही विभाग को शिकायत करेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि उन्होंने अपने प्रशंसा पत्र की खबरें अखबारों में लगवा कर इस का फायदा अपनी आयरेकस अकैडमी को प्रोमोट करने में लेंगे। 

-इस मामले पर क्या कहते है जांच अधिकारी डिप्टी डीईओ

इस मामले पर जब  जांच अधिकारी  डिप्टी डीईओ चरणजीत सिंह से बात की गई तो उन्होंने बताया कि उनके द्वारा जांच की गई और जांच की रिपोर्ट बना कर अपने उच्च अधिकारियों को दे दी थी । इससे ज्यादा मैं और कुछ नहीं कह सकता।

-इस मामले पर क्या कहना है स्कूल प्रिंसिपल का।

इस मामले पर सरकारी सीनियर स्कूल लड़के फाजिल्का के प्रिंसिपल  राज कुमार ने कहा कि उनके पास आदेश आए थे और मैंने उक्त अध्यापक को रिलीव कर दिया था।

-इस मामले पर क्या कहा उक्त अध्यापक ने

इस पूरे मामले पर जब उक्त अध्यापक संदीप कुमार का पक्ष जानने के लिए फोन किया गया तो उन्होंने कहा कि मैं अभी गाड़ी चला रहा हूं थोड़ी देर में आपसे बात करता हूं।

229 Views
error: Content is protected !!