Latest news

होली हार्ट डे बोर्डिंग पब्लिक सीनियर सैकेंडरी स्कूल की सिल्वर जुबली पर आज विशेष







25 years of journey of Holy Heart School, full of struggle, hard work, strong intention and success

 

आज से 25 वर्ष पूर्व एक किराये के कमरे में शुरू हुआ था होली हार्ट स्कूल

-होली हार्ट स्कूल ने अनगिनत विद्यार्थियों के सपनों को किया साकार

‘‘मैं अकेला ही चला था जानिब-ए-मंजिल मगर,

लोग साथ आते गए और कारवां बनता गया’’

फाजिलका-(दलीप दत्त)- कहते हैं कि जरूरी नहीं कि उडऩे के लिये आपके पास पंख हों बल्कि आप दृढ निश्चय, मेहनत तथा जज्बे के बलबूते सफलता के आसमान की ऐसी ऊंची उडान भर सकते हैं कि आपके शौर्य व कामयाबी को दुनिया सलाम करती है। ऐसा ही 25 वर्षों का अद्भुत, ऐतिहासिक व प्रेरणादायक तथा सफलता से परिपूर्ण होली हार्ट डे बोर्डिंग पब्लिक सीनियर सैकेंडरी स्कूल का सफर रहा है। इन 25 वर्षों के अंतराल में होली हार्ट स्कूल ने संघर्षों को सामना करते हुए कई उतार चढ़ाव देखे लेकिन कभी भी विद्यार्थियों अभिभावकों व क्षेत्र वासियों के प्रति कर्तव्यों की प्रतिपूॢत करने से कभी भी मुंह नहीं मोड़ा। होली हार्ट ने शिक्षा के साथ खेलों व सहायक पाठय क्रियाओं सहित प्रत्येक क्षेत्र में कीर्तमान स्थापित करते हुए अभिभावकों व क्षेत्र वासियों को सर्वश्रेष्ठ परिणाम देते हुए गौरवाङ्क्षतत होने का अवसर प्रदान किया। होली हार्ट स्कूल ने इलाके के अनगिनत छात्र छात्राएं के सपनों को साकार करने में बड़ी भूमिका अदा की है जो आज अपनी जिंदगी में सीए, डाक्टर, इंजीनियर, अध्यापक व बड़े अधिकारी बन चुके हैं।

आज होली हार्ट डे बोर्डिंग पब्लिक सीनियर सैकेंडरी स्कूल को इलाके के सर्वश्रेष्ठ विद्यालय का दर्जा दिया गया है लेकिन यहां तक पहुंचना प्रिंसिपल रीतू भूसरी, संस्थापक रमेश भूसरी व समूह मैनेजमैंट के लिये आसान नहीं रहा है। होली हार्ट स्कूल की स्थापना से लेकर अब तक की अनगिनत उपलब्धियों से परिपूर्ण सफर की कहानी युवा वर्ग व विद्यार्थियोंके लिये प्रेरणा से कम नहीं है।

होली हार्ट डे बोर्डिंग स्कूल की स्थापना आज से 25 वर्षों पूर्व 2 फरवरी 1995 में फाजिल्का के कैलाश नगर की चार डी गली में एक किराये के कमरे में से की गई थी। उस समय में श्रीमती रीतू भूसरी ही उस एक कमरे के स्कूल की प्रिंसिपल, अध्यापिका व मैनेजर थी। लेकिन इस संघर्ष की शुरूआत में उनके पति व संस्थापक श्री रमेश भूसरी ने पल पल सहयोग किया और होली हार्ट स्कूल रूपी पौधे को वट वृक्ष बनाने में भरपूर योगदान दिया। उसके बाद स्कूल को नेहरू नगर के समीप किराये की बिल्डिंग में स्थापित किया गया। लेकिन प्रिं. रीतू भूसरी व रमेश भूसरी की अनथक मेहनत के नतीजे 1 जनवरी 2003 को आधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित शानदार मौजूदा इमारत में शिफ्ट कर दिया गया। इसी बीच वर्ष 2005 में स्कूल को दसवीं कक्षा के लिये सीबीएसई बोर्ड से मान्यता मिली और वर्ष 2010 में सीबीएसई बोर्ड ने 12वीं कक्षाओं को शुरू करने के लिये स्वीकृति दे दी। इसी बीच नन्हें मुन्ने बच्चों के लिये अप्रैल 2015 में स्कूल में ही स्टैपिंग स्टोनस डे केयर की स्थापना की गई और उसका भी सफलातपूर्वक संचालन किया जा रहा है।

होली हार्ट स्कूल ने इन 25 वर्षों में अनेकोनेक अभिभावकों की उम्मीदों पर खरा उतरते हुए उनके बच्चों को जीवन के लक्ष्य तक पहुंचाने में ऐसा सराहनीय कार्य किया है जोकि किसी पुनीत काम से कम नहीं है। होली हार्ट स्कूल शिक्षा के साथ साथ सामाजिक जिम्मेदारी भी निभा रहा है जिसके तहत जरूरतमंद तथा मेधावी विद्यार्थियोंको बिना किसी दिखावे के निशुल्क तथा स्कालरशिप देते हुए शिक्षित किया जाता है। होली हार्ट स्कूल का दामन 25 वर्षों के समय में अथाह विभिन्न प्रकार की उपलब्धियोंं से भरा पड़ा है जिसके लिये प्रिंसिपल रीतू भूसरी को अनेकों बार राज्य व राष्ट्रीय समारोहों में सम्मानित किया जा सकता है। लेकिन होली हार्ट स्कूल की स्वॢणम सफलता का श्रेय सिर्फ किसी एक इंसान को नहीं बल्कि सफलता की बुलंदियों को छूने का श्रेय प्रत्येक शहर वासी, स्टाफ, विद्यार्थियों मैनेजमैंट के सहयोग, समर्पण व विश्वास को जाता है। होली हार्ट स्कूल आज इलाके के हर माता पिता का विश्वास बन चुका है और इस विश्वास पर होली हार्ट स्कूल मैनेजमैंट सदैव खरा उतरा है। आज होली हार्ट स्कूल की शानदार सिल्वर जुबली पर प्रिंसिपल श्रीमती रीतू भूसरी, संस्थापक सदस्य रमेश भूसरी, मैनेजिंग डायरैक्टर अनमोल भूसरी व सीनियर कोआर्डीनेटर श्रीमती शिल्पा भूसरी विद्यार्थियों अभिभावकों, स्टाफ तथा इलाका वासियों को हाॢदक बधाई व शुभकामनाएं।

इलाका वासियों के सम्मान व स्नेह की कर्जदार रहूंगी: प्रिं. रीतू भूसरी

 प्रिंसिपल रीतू भूसरी ने होली हार्ट स्कूल की सिल्वर जुबली पर बधाई देते हुए स्वॢणम सफलता का श्रेय विद्यार्थियों अध्यापकों, मैनेजमैंट, अभिभावकों को दिया है जिसके लिये वो हृदय से आभारी हैं। उन्होंने कहा कि यह सामूहिक मेहनत व प्रयासों का ही नतीजा है कि आज स्कूल ने हर क्षेत्र में शानदार उपलब्धियां हासिल की हैं। उन्होंने कहा कि होली हार्ट स्कूल सदैव शहर वासियों व विद्यार्थियोंको समॢपत था, समर्पित है और समॢपत रहेगा। प्रिं. रीतू भूसरी ने कहा कि होली हार्ट स्कूल के प्रति लोगों के सम्मान व स्नेह के लिये वो सदैव कर्जदार रहेंगी। उन्होंने कहा कि हमने अपने हर विद्यार्थी को शिक्षित करने के साथ साथ उसके एक जिम्मेदार नागरिक बनाने का सदैव प्रयास किया है।

होली हार्ट स्कूल की सफलता का श्रेय सबको: रमेश भूसरी

होली हार्ट स्कूल के संस्थापक सदस्य रमेश भूसरी ने कहा कि 25 वर्ष पूर्व एक पौधे के रूप में रोपित होली हार्ट स्कूल आज एक ऐसे वट वृक्ष का रूप धारण कर चुके हैं कि जिसके संपर्क में आने वालों की आज जिंदिगयां बदल चुकी हैं। उन्होंने कहा कि होली हार्ट स्कूल की ऐतिहासिक सफलता का श्रेय प्रत्येक अभिभावक, अध्यापक, मैनेजमैंट, विद्यार्थियोंतथा शहर वासियों को जाता है।

फाजिल्का वासी एक बड़े सरप्राइज के लिये रहें तैयार: अनमोल भूसरी

मैनेजिंग डायरैक्टर अनमोल भूसरी ने कहा कि होली हार्ट स्कूल ने हमेशा ही शहर वासियों को शिक्षा के क्षेत्र नयापन व आधुनिक दिया है। उन्होंने कहा कि शीघ्र ही होली हार्ट स्कूल की तरफ से शहर वासियों को एक बड़ा सरप्राइज दिया जा रहा है जोकि शिक्षा के क्षेत्र में एक क्रांतिकारी कदम साबित होगा है। उन्होंने कहा कि इन 25 वर्षों में होली हार्ट स्कूल ने गुणवत्ता से भरपूर शिक्षा मुहैया करवाते हुए अपने उद्देश्य को पूरा किया है।

गुण्वात्मक शिक्षा और नैतिकता ही हमारा उद्देश्य: शिल्पा भूसरी

सीनियर कोआर्डीनेटर मैडम शिल्पा भूसरी ने सिल्वर जुबली की बधाई देते हुए मैनेजमैंट के उद्देश्यों को दोहराते हुए कहा कि शिक्षा में विद्यार्थियोंको क्वालिटी एजुकेशन और नैतिकता ही हमारा सबसे बड़े उद्देश्य में शुमार रहा है और इन्हीं बड़े उद्देश्यों पर होली हार्ट स्कूल सदैव कायम रहेगा। उन्होंने कहा कि होली हार्ट स्कूल ने कभी भी असूलों से समझौते नहीं किया और यहीं कारण है कि आज होली हार्ट स्कूल लोगों के दिलों में बस चुका है।

 

66 Views


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!