Latest news
शिमला में गिले कूड़े से खाद बनाने के लिए बनेंगे चार प्लांट खुद बेरोजगार, लोगों को देगा रोजगार वाह रे तेरे वादे वाह रे तेरे वादे। समरबीर सिंह सिद्धू की जन आशीर्वाद रैली में उमड़े समर्थकों व वालंटियरों के सैलाब ने विरोधियों के उड़ा... 4 साल की मासूम को आवारा कुत्तों ने नोंचा ओबीसी आरक्षण पर बवाल, भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर नजरबंद एमएलए बनने की चाह ,कहीं शुरू होने से पहले ही ना खत्म कर दे राजनीतिक सफर।प्रयोग करो और फेक दो, शायद इ... केंद्रीय मंत्री सोम प्रकाश को मिला शिष्टमंडल ओडिशा में 5400 फूलों से बना सांता क्लॉज पंजाब में चुनावों से पहले बेअदबी की घटना से सूबे में माहौल खराब करने की कोशिश लुधियाना सिविल अस्पताल की स्टाफ नर्सें हड़ताल पर, सिविल सर्जन कार्यालय में दिया धरना


पाकिस्‍तान में हाफिज सईद के आतंकी संगठन के प्रवक्‍ता को 32 साल की कैद



हाफिज सईद के आतंकी संगठन पर कार्रवाई.

आतंकवाद रोधी अदालत (एटीसी) ने बुधवार को हाफिज सईद (Hafiz Saeed) के बहनोई सहित जेयूडी के तीन गुर्गों को आतंकवाद के वित्तपोषण मामलों में दोषी ठहराया.

लाहौर. पाकिस्तान (Pakistan) की एक आतंकवाद रोधी अदालत ने जमात-उद-दावा (जेयूडी) के प्रवक्ता को आतंकवाद के वित्तपोषण मामले में 32 साल कैद की सजा सुनाई है. जमात -उद-दावा (जेयूडी) मुंबई हमले के मास्टर माइंड हाफिज सईद (Hafiz saeed) का आतंकवादी संगठन है.

 

आतंकवाद रोधी अदालत (एटीसी) ने बुधवार को यहां सईद के बहनोई सहित जेयूडी के तीन गुर्गों को आतंकवाद के वित्तपोषण मामलों में दोषी ठहराया. अदालत के एक अधिकारी ने कहा, ‘एटीसी के न्यायाधीश एजाज अहमद बुत्तार ने जेयूडी के प्रवक्ता याहया मुजाहिद को दो मामलों में 32 साल की सजा सुनाई. वहीं प्रोफेसर जफर इकबाल और प्रोफेसर हाफिज अब्दुल रहमान मक्की (सईद का बहनोई) को दो मामलों में क्रमश: 16 और एक साल कैद की सजा सुनाई है.’

उन्होंने बताया कि संगठन के दो अन्य गुर्गे अब्दुल सलाम बिन मुहम्मद और लुकमान शाह को आतंकवाद के वित्तपोषण संबंधी अन्य मामलों में दोषी ठहराया गया है. अदालत ने अभियोजन पक्ष को 16 नवंबर को अपने गवाह पेश करने का निर्देश दिया है.

 

सुनवाई के समय संदिग्ध कड़ी सुरक्षा के बीच अदालत में मौजूद थे और इस दौरान मीडिया को अदालत परिसर में जाने की अनुमति नहीं थी. वहीं पाकिस्तान की संघीय जांच एजेंसी ने बुधवार को स्वीकार किया है कि भारत की आर्थिक राजधानी मुंबई पर हुए 26/11 के हमले (26/11 Mumbai Attack) में पाकिस्तान के आतंकियों का हाथ था. एफआई ने इस बात को स्वीकार कर लिया है कि मुंबई स्थित ताज होटल पर हुए हमले को लश्कर-ए-तैयबा के 11 आतंकियों ने अंजाम दिया है.

भारत के लगातार दबाव बनाने पर पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान को अपने घुटने टेकने ही पड़े. इसलिए ही पाकिस्तान ने 26/11 के हमले में शामिल आतंकवादियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का फैसला लिया है.

Source link

531 Views
error: Content is protected !!