Mon. May 20th, 2019

कैप्टन अमरिन्दर सिंह द्वारा सुखबीर और हरसिमरत के हलकों में धावा – भ्रष्ट और घमंडी अकाली जोड़े को बाहर का रास्ता दिखाने के लिए लोगों को न्यौता सांप्रदायिक आधार पर सूबे को बाँटने की कोशिश करने वाले बादलों को पाठ पढ़ाने के लिए लोगों से अपील

फाजिल्का-(दलीप दत्त)-पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने सुखबीर और हरसिमरत बादल के हलकों में धावा बोलकर उनके घमंड को चकना चूर करके रख दिया और इस भ्रष्ट और सत्ता के भूखे जोड़े पर तीखे हमले करते हुए कहा कि सूबे को सांप्रदायिक आधार पर बाँटने की बादलों की कोशिश के लिए इस चुनाव में उनको न भूलने वाला पाठ पढ़ाए जाने की ज़रूरत है।सुखबीर के फिऱोज़पुर और हरसिमरत के बठिंडा हलकों में प्रभावी चुनावी रैलियों को संबोधन करते हुए कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने अपने संकुचित हितों को बढ़ावा देने वाले ऐसे नेताओं को हराने का लोगों को न्योता दिया है जो सत्ता को सूबे की भलाई की जगह अपने निजी हितों के लिए ईस्तेमाल करते हैं। बादलों के विरुद्ध चुनावी मैदान में उतरे कांग्रेस के उम्मीदवार शेर सिंह घुबाया और अमरिन्दर सिंह राजा वडि़ंग को वोट डालने की लोगों से अपील करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि बादलों ने अपने शासनकाल के दौरान पंजाब के लोगों की कीमत पर अपने होटल और जायदादें बनाईं हैं। अब उनके कानों में यह बात भी पड़ी है कि अकाली नेता कांग्रेस को वोट डालने के विरुद्ध लोगों को धमकियां दे रहे हैं। मुख्यमंत्री ने लोगों को संकट पैदा करने वाले अकालियों का नाम बताने के लिए कहा। उन्होंने जोश भरी आवाज़ में कहा कि मैं जानता हूँ कि उनको किस तरह ठीक करना है और मैं यह भी जानता हूँ कि बादलों को उनकी बनती जगह पर किस तरह रखना है।कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि अगर बादल और बिक्रम सिंह मजीठिया जैसे अन्य अकाली यह सोचते हैं कि वह लोगों को डरा धमका कर शिरोमणी अकाली दल को वोट डलवा सकते हैं तो वह गलती कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में बाज़ुओं की ता$कत और जोर-जबरदस्ती नहीं चलती। मुख्यमंत्री ने ऐलान किया कि अकालियों को इस चुनाव में पूरा सबक पढ़ा दिया जायेगा।कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि इन दावपेचों से लगता है कि बादल अपनी हार को देखकर डर गए हैं और बादलों को पता है कि उनको अपने किये का परिणाम भुगतना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि श्री गुरु ग्रंथ साहिब, गीता, बाईबल और कुरान जैसे पवित्र धार्मिक ग्रंथों की बेअदबी करने वाले किसी को भी सजा से भागने नहीं दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि पंजाब बुरे दौर में से गुजऱा है और बादलों ने अपने विघटनकारी एजंडे को बुरी तरह आगे बढ़ाया है। उन्होंने धार्मिक ग्रंथों की बेअदबी की आज्ञा देकर नफऱत पैदा करने की कोशिश की। मुख्यमंत्री ने कहा कि बेअदबी के मामलों की जांच का काम निष्कर्ष तक पहुंचाने के लिए चुनाव के बाद आई. जी. कुंवर विजय प्रताप सिंह वापिस एस.आई.टी. में आ जायेगा। उन्होंने कहा कि अकाली अपने आप को 2-3 हफ्ते बचाकर रख सकते हैं, इससे ज़्यादा समय नहीं।मुख्यमंत्री ने कहा कि बादलों ने पंजाब को बाँटने की कोशिश के तौर पर बेअदबी की घटनाएँ घटने दीं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी देश की धर्म निष्पेक्षता को चोट पहुंचाई। भारतीय जनता पार्टी और उसके सहयोगी धार्मिक आधार पर भारत को बाँटने की कोशिशें कर रहे हैं जबकि कांग्रेस सभी धर्मों की समानता के अपने स्टैंड पर खड़ी है। उन्होंने कहा कि एकता ही भारत की शक्ति है जिसको बी.जे.पी., अकाली और इनके अन्य सहयोगी तबाह करने पर तुले हुए हैं।अकाल तख्त और एस.जी.पी.सी. का अपने हितों के लिए प्रयोग करने के लिए शिरोमणी अकाली दल की तीखी आलोचना करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस एस.जी.पी.सी. चुनाव नहीं लड़ती परन्तु वह व्यक्तिगत तौर पर उसे समर्थन देंगे जो सिख धार्मिक संस्थाओं को शिरोमणी अकाली दल की पकड़ में से मुक्त करा सकते हैं। एस.जी.पी.सी. चुनाव लंबे समय से होने बाकी हैं परन्तु शिरोमणी अकाली दल के कहने पर बी.जे.पी. इनको कराने से रोकती आई है। इनको करवाना पार्लियामेंट के अधिकार क्षेत्र में है जहाँ वह बहुमत में हैं।मुख्यमंत्री ने कहा कि राष्ट्रवाद पूरी तरह धर्म निष्पेक्ष है। सशस्त्र बलों की सफलता का सेहरा अपने सिर बाँधने की मोदी की निराशाजनक कोशिशें राष्ट्रवाद नहीं है। उन्होंने प्रधानमंत्री के उच्च ओहदे की मर्यादा को घटाने के लिए मोदी की तीखी आलोचना की। उन्होंने कहा कि इंदिरा गांधी ने पाकिस्तान को बाँटा परन्तु उसने कभी भी इसका सेहरा अपने सिर नहीं लिया जबकि मोदी सशस्त्र बलों के कार्यों का सेहरा अपने सिर बांध रहा है। उन्होंने कहा कि किसी भी प्रधानमंत्री ने इस तरह का शर्मनाक व्यवहार नहीं किया।राजीव गांधी पर टिप्पणी करने के लिए मोदी की तीखी आलोचना करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री में कोई भी शालीनता नहीं है। उसने उस आदमी को भी नहीं बख्शा जो इस दुनिया में नहीं है और अपना पक्ष पेश नहीं कर सकता। उन्होंने कहा कि यह भारत की पारंपरिक नैतिक मूल्यों और नैतिकता के विरुद्ध है।मुख्यमंत्री ने कहा कि मोदी को अपने मुँह मियां मिठ्ठू बनने में लिप्त होने की जगह लोगों की समस्याएँ खासकर किसानों और नौजवानों की समस्याओं बारे सोचना चाहिए। उन्होंने कहा कि मोदी के झूठे वायदे पूरी तरह नंगे हो गए हैं। उन्होंने प्रधानमंत्री के हरेक के खाते में 15 लाख रुपए आने वाले वायदे का भी जि़क्र किया। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी ने पूरी तरह तर्कमयी वायदा किया है और गरीबों को सालाना 72 हज़ार रुपए देने का वायदा किया है। इसको कांग्रेस ने अपने चुनावी घोषणापत्र का हिस्सा बनाया है।मुख्यमंत्री ने कहा कि वह जब भी प्रधानमंत्री को मिले हैं तो उन्होंने हर बार पंजाब की चिंताओं का हल करने का वायदा किया है परन्तु अभी तक कुछ भी नहीं किया। इसके उलट कांग्रेस ने अपने दो साल के शासन दौरान अनेकों वायदे पूरे कर दिए हैं और बाकी रहते वायदे अगले तीन सालों में पूरे कर दिए जाएंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने पंजाब के बच्चों को बचाने के लिए नशा माफीए की कमर तोडऩे का वायदा किया था जिसको पूरा कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि जो लोग पंजाब के नौजवानों को तबाह करने के दोषी हैं उनको इसका हिसाब देना पड़ेगा।उन्होंने कहा कि इस चुनाव में हमारे बच्चों के भविष्य और देश को बचाने का लक्ष्य है और इसलिए कांग्रेस को लोगों के समर्थन की ज़रूरत है ताकि उपरोक्त लक्ष्यों को यकीनी बनाया जा सके।

0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed